Log in

Prarthana

हम को मन की शक्ति देना मन विजय करे
दूसरों की जय से पहले खुद को जय करे

हम को मन की शक्ति देना मन विजय करे
दूसरों की जय से पहले खुद को जय करे
हम को मन की शक्ति देना


भेदभाव अपने दिल से साफ़ कर सके
दोस्तों से भूल हो तो माफ़ कर सके
झूठ से बचे रहे सच का दम भरे
दूसरों की जय से पहले खुद को जय करे
हम को मन की शाक्त देना मन विजय करे
दूसरों की जय से पहले खुद को जय करे
हम को मन की शाक्त देना

 

मुश्किलें पड़े तो हम पे इतना करम कर
साथ दे तो धरम का चले तो धरम कर
खुद पे हौसला रहे बड़ी से ना डरे
दूसरों की जय से पहले खुद को जय करे
हम को मन की शाक्त देना मन विजय करे
दूसरों की जय से पहले खुद को जय करे
हम को मन की शाक्त देना

hum ko man ki shakti dena, man vijay kare
dusron ki jay se pehle, khud ko jay kare

hum ko man ki shakti dena

bhedbhaav apane dil se saaf kar sake
doston se bhool ho to maaf kar sake
jhoot se bache rahe, sach ka dam bhare
dusron ki jay se pehle, khud ko jay kare

hum ko man ki shakti dena, man vijay kare
dusron ki jay se pehle, khud ko jay kare

hum ko man ki shakti dena


mushkile pade to hum pe itna karm kar
saath de to dharm ka, chale to dharm kar
khud pe hausla rahe, badi se naa dare
dusron ki jay se pehle, khud ko jay kare

hum ko man ki shakti dena, man vijay kare
dusron ki jay se pehle, khud ko jay kare

hum ko man ki shakti dena


Copyright© 2020-21 AUM AShram  All Rights Reserved.

Powered by Wild Apricot Membership Software